भाद्रपद महीने (Bhadon Month) की शुक्‍ल पक्ष (Shukla Paksh) की एकादशी तिथि (Ekadashi Tithi) को जलझूलनी एकादशी (Jal Jhulani Ekadashi) कहते हैं, जलझूलनी एकादशी (Jal Jhulani Ekadashi) को अन्‍य नामों से भी जाना जाता है - परिवर्तिनी एकादशी (Parivartini Ekadashi), पदमा एकादशी (Padma Ekadashi) और डोल ग्यारस (Dol Gyaras)। जलझूलनी एकादशी का बहुत महत्‍व होता है तो आईये जानते हैं जलझूलनी एकादशी का महत्‍व (Jal Jhulni Ekadashi Ka Mahatva) -

जलझूलनी एकादशी का महत्‍व - Jal Jhulni Ekadashi Ka Mahatva

ऐसी मान्‍यता है कि जलझूलनी एकादशी (Jal Jhulani Ekadashi) के दिन भगवान श्रीकृष्ण के जन्‍म के बाद पहली बार माता यशोदा ने उनके वस्‍ञ धोये थे, यह उनके जन्‍म के बाद बनाये जाने वाला एक त्‍यौहार हैंं कहते हैं देवी-देवता भी जलझूलनी एकादशी (Jal Jhulani Ekadashi) का व्रत करते हैं। मंदिरों में भगवान विष्‍णु और कुछ स्‍थानों भगवान श्रीकृष्ण को पालकी में बिठाकर शोभायाञा निकाली जाती है। इसलिये इसे डोल ग्यारस (Dol Gyaras) भी कहते हैं। 

एक मान्‍यता केे अनुसार कहा जाता है कि भगवान विष्‍णु इस दिन अपने शयन से करवट बदलते हैं जिस कारण इसे परिवर्तिनी एकादशी (Parivartini Ekadashi) या वामन एकादशी (Bavan Ekadashi) भी कहते हैं, इस दिन भ्‍ागवान विष्‍णु के वामन रूप की पूजा अर्चना करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है।

dev jhulni ekadashi, Jaljilani (Parivartni) Ekadashi, padma ekadashi, Jaljulni Ekadashi, padma ekadashi, Parivatini Ekadashi, Vishnu Parivatini Ekadashi


loading...

Post a Comment

1. हिन्‍दी होम टिप्‍स आपके लिये बनाई गयी है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत लेखों के बारे में आपकी विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी सही टिप्‍पणी हिन्‍दी होम टिप्‍स को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
आप हमें इन सोशल नेटविर्कंग साइट पर भी फॉलो कर सकते हैं -
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का फेसबुक पेज
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का गूगल+ पेज