Ads (728x90)



नवरात्रि (Navratri) में मां दुर्गा के नौ रूपों (Durga Devi Nine Avatars) की पूजा अर्चना की जाती है, नवरात्रि (Navratri) के नौवें दिन को दुर्गा महा नवमी ( Durga Maha Navami ) कहते हैं इसका विशेष महत्‍व होता है, इसे महा नवमी (Maha Navami ) भी कहते हैं, महा नवमी (Maha Navami ) के दिन देवी दुर्गा के नौवें स्वरूप माँ सिद्धिदात्री (Devi Siddhidatri) की पूजा अर्चना की जाती है, इस दिन कन्या पूजन/कंजक पूूजन (Kanjak Poojan) का भी विधान है आईये जानते हैं दुर्गा महा नवमी का महत्व - Durga Maha Navami Ka Mahatva

दुर्गा महा नवमी का महत्व - Durga Maha Navami Ka Mahatva

हिंदू धर्म में नवरात्रि (Navratri) पर पर्व बडें धूमधाम से मनाया जाता है, यह पूरे नौ दिन तक चलता है और नवमी के दिन इसका समापन होता है, इस दिन देवी दुर्गा के नौवें स्वरूप माँ सिद्धिदात्री (Devi Siddhidatri) की पूजा अर्चना की जाती है, ऐसी मान्‍यता है कि माँ सिद्धिदात्री (Devi Siddhidatri) आदि शक्ति भगवती का रूप है, इनकी पूूजा अर्चना करने से मनुष्‍य की सभी मनोकामनायें पूूर्ण हो जाती हैं, यह सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाली हैं।

इस दिन कन्‍या पूूजन (Kanya Pujan) का भी विशेष महत्‍व है, नवरात्र में दो से दस वर्ष की कन्याओं के पूजन का विधान है - 
  1. दो वर्ष की कन्या को कुमारी कहा जाता है. इनका पूजन करने से दु:ख-दरिद्रता दूर हो जाती है. 
  2. तीन वर्ष की कन्या को त्रिमूर्ति कहते हैं. त्रिमूर्ति पूजा से धर्म, अर्थ, काम की सिद्धि प्राप्त होती है.
  3. चार वर्ष की बालिका को कल्याणी कहा जाता है. कल्याणी की पूजा द्वारा विद्या, विजय तथा समस्त कामनाओं की पूर्ति होती है. 
  4. पांच वर्ष की कन्या को रोहिणी कहते हैं. रोहिणी की पूजा करने से अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है तथा रोग दूर होते हैं. 
  5. छ:वर्ष की कन्या को कालिका कहा जाता है. शत्रु का शमन तथा विरोधियों को परास्त करने के लिए कालिका का पूजन करना चाहिए
  6. सात साल की कन्या को चण्डिका कहते हैं. इनके पूजन से धन-सम्पत्ति की प्राप्ति होती है,
  7. आठ वर्ष की कन्या को शाँभवी कहा जाता है. शांभवी की पूजा द्वारा निर्धनता दूर होती है, व्यक्ति को वाद-विवाद में विजय प्राप्त होती है
  8. नौ वर्ष की कन्या को दुर्गा कहते हैं, जो भक्तों को संकट से बचाती हैं, कठिन कार्य को सिद्धि करती हैं, इनकी पूजा करने से साधक को किसी प्रकार का भय नहीं सताता. 
  9. दस वर्ष की कन्या को सुभद्रा कहते हैं यह भक्तों का कल्याण करती हैं. इनकी पूजा से लोक-परलोक दोनों में सुख प्राप्त होता है.
यह नौ कन्याएं नवदुर्गा की साक्षात् प्रतिमूर्ति मानी जाती हैं। कन्‍याओं को विधिवत तरीके से बुलावा दिया जाता है और सुरूचिपूर्ण भोजन कराया जाता है, नवमी के दिन चना हलवा के प्रसाद का विशेष महत्‍व होता है।

Tag - Maha Navami,  ninth day of Navarathri, navami meaning, maha navami, navami durga puja



Post a Comment

1. हिन्‍दी होम टिप्‍स आपके लिये बनाई गयी है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत लेखों के बारे में आपकी विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी सही टिप्‍पणी हिन्‍दी होम टिप्‍स को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
आप हमें इन सोशल नेटविर्कंग साइट पर भी फॉलो कर सकते हैं -
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का फेसबुक पेज
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का गूगल+ पेज