नवरात्रि (Navratri) में मां दुर्गा के नौ रूपों (Durga Devi Nine Avatars) की पूजा अर्चना की जाती है, इन नौ दिनों में दुर्गा अष्टमी (Durga Ashtami ) का विशेष महत्‍व होता है, इसे महाअष्टमी (Maha Ashtami) भी कहते हैं, इस दिन मॉं महागौरी (Devi Mahagauri) की पूजा अर्चना की जाती है, इस दिन कन्या पूजन/कंजक पूूजन (Kanjak Poojan) का भी विधान है आईये जानते हैं दुर्गा अष्टमी का महत्व - Durga Ashtami Ka Mahatva

दुर्गा अष्टमी का महत्व - Durga Ashtami Ka Mahatva

अष्‍टमी के दिन माता महागौरी की पूजा की जाती है। देवी पार्वती जो शक्ति का अवतार है और भगवान कार्तिकेय और भगवान गणेश की माँ और भगवान शिव की पत्नी है उनका ही एक नाम महागौरी है, ऐसी मान्‍यता है कि इस दिन महागौरी की पूूजा-अर्चना करने से मनुष्‍य के समस्‍त पापों का अंंत होता है। इस दिन कन्‍याओं की पूूजा की जाती है और उनको भोजन भी कराया जाता है जिसमें काला चना, हलवा का प्रसाद मुख्‍य होता है। 

दुर्गा अष्‍टमी के दिन को कुल देवी के पूूजन का दिन भी माना जाता है, दुर्गाष्टमी को ज्‍यादातर में कुलदेवी की पूजा-अर्चना की जाती है। ऐसी मान्‍यता है कि हर परिवार की एक कुल देवी होती है और इस दिन कुल देेवी की पूूजा करन से कुल देवी पूरे परिवार की रक्षा करती है।

Tag - devotional durga ashtami, Devi Maha Gauri in Navratri, Ashtami pooja, Mahagauri Puja, Kanya Pooja on Durga Ashtami



Post a Comment

1. हिन्‍दी होम टिप्‍स आपके लिये बनाई गयी है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत लेखों के बारे में आपकी विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी सही टिप्‍पणी हिन्‍दी होम टिप्‍स को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
आप हमें इन सोशल नेटविर्कंग साइट पर भी फॉलो कर सकते हैं -
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का फेसबुक पेज
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का गूगल+ पेज