Ads (728x90)



मार्गशीर्ष माह में शुक्‍ल पक्ष ( Shukla Paksh ) की एकादशी ( Ekadashi ) तिथि को मोक्षदा एकादशी (Mokshda Ekadashi ) करते हैं। मोक्षदा एकादशी (Mokshda Ekadashi ) को गीता जयंती (Gita Jayanti) भी कहते हैं। मोक्षदा एकादशी (Mokshda Ekadashi ) समस्त पापों का नाश करने वाली एकादशी ( Ekadashi ) होती है, आईये जानते हैं मोक्षदा एकादशी एवं गीता जयंती का महत्‍व ( Mokshda Ekadashi Aur Gita Jayanti Ka Mahatva ) -

मोक्षदा एकादशी एवं गीता जयंती का महत्‍व - Mokshda Ekadashi Aur Gita Jayanti Ka Mahatva

एकादशी प्रत्येक माह में दो बार आती है यानि साल में 24 बार। विशेष मास में आने वाली दो एकादशी को जोड़ कर कुल 26 एकादशी होती हैं। ऐसी मान्‍यता है कि जो मनुष्‍य मोक्षदा एकादशी (Mokshda Ekadashi) का व्रत रखता है उसके समस्‍त प्रकार के पाप नष्‍ट हो जाते हैं, मोक्षदा एकादशी (Mokshda Ekadashi ) का व्रत रखने वालेे व्‍यक्ति के पितरों का उद्धार हो जाता है। । मोक्षदा एकादशी (Mokshda Ekadashi) को भगवान श्रीकृष्ण (Shri Krishna) दामोदर की पूजा की जाती है।

मार्गशीर्ष माह में शुक्‍ल पक्ष ( Shukla Paksh ) की एकादशी ( Ekadashi ) तिथि को आज सेे लगभग 7000 वर्ष पूर्व भगवान श्रीकृष्ण ने कुरुक्षेत्र की रणभूमि में कर्तव्‍य से भटके हुए अर्जुन को कर्तव्‍य सिखाने के लिए और आने वाली पीढियों को धर्म-ज्ञान सिखाने के लिए गीता का उपदेश (Geeta Ke Updesh) दिया था, इस कारण इस दिन को गीता जयंती (Gita Jayanti) के भी कहते हैं। इस दिन से गीता-पाठ का अनुष्ठान अवश्‍य करना चाहिये।

Tag - geeta jayanti in hindi, International Gita Mahotsav, Mokshada Ekadashi, mokshada ekadashi katha



Post a Comment

1. हिन्‍दी होम टिप्‍स आपके लिये बनाई गयी है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत लेखों के बारे में आपकी विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी सही टिप्‍पणी हिन्‍दी होम टिप्‍स को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
आप हमें इन सोशल नेटविर्कंग साइट पर भी फॉलो कर सकते हैं -
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का फेसबुक पेज
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का गूगल+ पेज