माघ मास (Magh Month) में कृष्ण पक्ष (Krishna Paksha) की चतुर्थी तिथि (Chaturthi Tithi) को सकट चौथ (Sakat Chauth) कहते हैं। सकट चौथ (Sakat Chauth) को तिल चौथ (Til Chauth), तिलकुट चौथ (tilkut chauth) और माही चौथ ( Mahi Chauth ) के नाम से भी जाना जाता है, सकट चौथ (Sakat Chauth) के दिन भगवान गणेश जी पूूजा का विधान है, आईये जानते हैं, सकट चौथ या तिल चौथ का महत्‍व Sakat Chauth Aur Til Chauth ka Mahatva

सकट चौथ या तिल चौथ का महत्‍व - Sakat Chauth Aur Til Chauth ka Mahatva

प्रत्‍येक मास की चतुर्थी को गणेश जी का व्रत रखा जाता है इसे विनायकी गणेश चतुर्थी (Vinayaki Ganesh Chaturthi) कहते हैं, लेकिन माघ मास (Magh Month) में कृष्ण पक्ष (Krishna Paksha) को पडने वाली चतुर्थी तिथि (Chaturthi Tithi) बहुत महत्‍व रखती है, इस दिन सभी महिलायें एक साथ व्रत रखती हैंं, इसे सकट चौथ या संकट हरण चौथ और तिलकुटा चौथ के नाम से जाना जाता है

इस दिन स्त्रियां निर्जल व्रत करती हैं। एक पटरे पर मिट्टी की डली को गणेशजी के रूप में रखकर उनकी पूजा की जाती है और कथा सुनने के बाद लोटे में भरा जल चंद्रमा को अर्घ्य देकर ही व्रत खोला जाता है। रात्रि को चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही महिलाएं भोजन करती है। सकट चौथ के दिन तिल को भूनकर गुड़ के साथ कूटकर तिलकुटा (Tilkut) अर्थात तिलकुट का पहाड़ बनाया जाता है। 
तिलकुटे से ही गणेशजी का पूजन किया जाता है तथा इसका ही बायना निकालते हैं और तिलकुट को भोजन के साथ खाते भी हैं। जिस घर में लड़के की शादी या लड़का हुआ हो, उस वर्ष सकट चौथ को सवा किलो तिलों को सवा किलो शक्कर या गुड़ के साथ कूटकर इसके तेरह लड्डू बनाए जाते हैं। इन लड्डूओं को बहू बायने के रूप में सास को देती है। कहीं-कहीं इस दिन व्रत रहने के बाद सायंकाल चंद्रमा को दूध का अर्घ्य देकर पूजा की जाती है। 

Tag - Ganesh Sankat Chauth Vrat in Hindi, What is Sakat Chauth, Tilkut Recipe, Til Gud Ladoo Recipe in Hindi, Gud tilkut, Gaya tilkut, Ganesh Chaturthi Information In Hindi, Ganesh Chaturthi Puja Vidhi, Sankashti Ganesh Chaturthi Vrat Vidhi In Hindi, ganesha puja in hindi, sri ganesha chaturdhi katha in hindi, ganesh chaturthi pooja process in hindi, hindi ganesha pooja



Post a Comment

1. हिन्‍दी होम टिप्‍स आपके लिये बनाई गयी है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत लेखों के बारे में आपकी विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी सही टिप्‍पणी हिन्‍दी होम टिप्‍स को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
आप हमें इन सोशल नेटविर्कंग साइट पर भी फॉलो कर सकते हैं -
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का फेसबुक पेज
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का गूगल+ पेज