Ads (728x90)



वैशाख मास (Vaisakha Maas) के कृष्ण पक्ष (krishna paksha) की एकादशी (Ekadashi) को वरुथिनी एकादशी कहते हैं, (Varuthini Ekadashi) वरुथिनी एकादशी (Varuthini Ekadashii) का व्रत सुख और सौभाग्य प्रदान करने वाला हैं वरुथिनी एकादशी (Varuthini Ekadashii) का व्रत रखने से सभी पापो का नाश हो और मोक्ष की प्राप्ति होती है तो आइये जानते है - बरूथिनी एकादशी का महत्व - Varuthini Ekadasi Ka Mahatva

बरूथिनी एकादशी का महत्व - Varuthini Ekadasi Ka Mahatva

ऐसा माना जाता है कि वरुथिनी एकादशी (Varuthini Ekadashii) का व्रत करने से किसी योग्य ब्राह्मण को दान देने, करोड़ों वर्ष तक तपस्या करने, के बराबर फल मिलता है' वरुथिनी' शब्द संस्कृत भाषा के 'वरुथिन्' से बना है, जिसका मतलब है- प्रतिरक्षक, कवच या रक्षा करने वाला वरुथिनी एकादशी (Varuthini Ekadashii) का व्रत भक्तो का हर संकट से रक्षा करता है 

यह मान्यता है कि वरुथिनी एकादशी (Varuthini Ekadashii) का व्रत एक दिन पहले दशमी तिथि की रात्रि से ही शुरू करना चाहिए, एकादशी को सुबह जल्दी उठकर नहाधोकर भगवान विष्णु की प्रतिमा के समक्ष व्रत का संकल्प लेना चाहिये तथा पूरे दिन उपवास रखना चाहिये, और एक समय भोजन करना चाहिये ।इस व्रत में तेलयुक्त भोजन नहीं करना चाहिए। भगवान विष्‍णु की पूजा करने से पहले भगवान को पंचामृत से स्नान कराना चाहिए। इसके बाद भगवान को गंध, पुष्प, धूप, दीपक, नैवेद्य आदि पूजन सामग्री अर्पित करें ,

Tag - Varuthini Ekadashi, About Varuthini Ekadashi, varuthini ekadashi varuthini ekadashi vrat katha, vaishnava varuthini ekadashi, How to do Varuthini Ekadashi Vrat



Post a Comment

1. हिन्‍दी होम टिप्‍स आपके लिये बनाई गयी है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत लेखों के बारे में आपकी विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी सही टिप्‍पणी हिन्‍दी होम टिप्‍स को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
आप हमें इन सोशल नेटविर्कंग साइट पर भी फॉलो कर सकते हैं -
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का फेसबुक पेज
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का गूगल+ पेज