Ads (728x90)



ज्येष्ठ माह में पडने वाली Sankranti को वृषभ संक्राति (Vrishabha Sankranti ) या ज्येष्ठ संक्रान्ति भी कहते हैं, हिंदू कलेंडर के अनुसार वृषभ संक्राति (Vrishabha Sankranti ) वर्ष के दूसरे माह में पडती है, वृषभ संक्राति (Vrishabha Sankranti ) सहित वर्ष में कुल 12 संक्राति पडती है, आईये जानते हैं वृषभ संक्रान्ति का महत्व - Vrishabha Sankranti Ka Mahatva

वृषभ संक्रान्ति का महत्व - Vrishabha Sankranti Ka Mahatva

शास्त्रों के अनुसार सूूर्य वर्ष में 12 बार राशि परिवर्तन करते हैं जब सूर्य एक राशि को छोडकर दूसरी राशि में प्रवेश को ही संक्रान्ति (Sankranti ) कहते हैं, इस प्रकार वर्ष में 12 संक्रान्ति (Sankranti ) पडती हैंं - 

वृषभ संक्राति (Vrishabha Sankranti ) के दिन ज्येष्ठ माह में वृषभ संक्रांति के दिन सूर्य वृष राशि में प्रवेश करते हैंं, इसे ज्येष्ठ संक्रान्ति भी कहते हैंं, अंगेजी माह के अनुसार वृषभ संक्राति (Vrishabha Sankranti ) मई के महीने में 14 या 15 तारीख को पडती है, 2017 में यह 14 मई को है

वर्ष में पडने वाली सभी बारह संक्रांति दान-पुण्य का बहुत अधिक महत्‍व होता है, इसी प्रकार वृषभ संक्राति (Vrishabha Sankranti ) के दिन गौ दान का महत्व होता है शास्त्रों में गाय के दान ( Godan) को बहुत बड़ा पुण्य का कार्य बताया गया है। 

Tag - About Vrishabha Sankranti, Vrishabha Sankranti Celebrations, Why Vrishabha Sankranti is so important To the Hindus 



Post a Comment

1. हिन्‍दी होम टिप्‍स आपके लिये बनाई गयी है।
2. इसलिये हम अापसे यहॉ प्रस्‍तुत लेखों के बारे में आपकी विचार और टिप्‍पणी की अपेक्षा रखते हैं।
3. आपकी सही टिप्‍पणी हिन्‍दी होम टिप्‍स को सुधारने और मजबूत बनाने में हमारी सहायता करेगी।
4. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
आप हमें इन सोशल नेटविर्कंग साइट पर भी फॉलो कर सकते हैं -
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का फेसबुक पेज
*हिन्‍दी होम टिप्‍स का गूगल+ पेज